जनदर्पण

देश की दशा व दिशा में सुधार की उम्मीद से प्रतिबिम्बित ।

48 Posts

608 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 6156 postid : 345

बजी रणभेरी छिड़ा चुनावी समर,

Posted On: 8 Feb, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

बजी रणभेरी
छिड़ा चुनावी समर,
सियासी बातें घड़ी-पहर

जनता होगी दाता अब
नेता याचक कर जोरे
क्रृपा करो जनस्वामी
शरणागत हम तेरे
विकास की गंगा बहा देगें
तरक्की होगी गांव औ शहर

बजी रणभेरी
छिड़ा चुनावी समर,
सियासी बातें घड़ी-पहर

अल्पसंख्यकों को आरक्षण
देगें निर्बल को संरक्षण
भूखे पेट को रोटी
बेरोजगारों को रोजी
सब बिधि जनकल्याण करेंगे
तुम हमें जितवा दो अगर

बजी रणभेरी
छिड़ा चुनावी समर,
सियासी बातें घड़ी-पहर

साम –दाम द्ण्ड भेद की
चौसर बिछ गयी है
अगड़े पिछ्ड़े के इस्तेमाल की
चलते चालें नयी-नयी
वादों के बम गोले दागते

बजी रणभेरी
छिड़ा चुनावी समर,
सियासी बातें गांव औ शहर
सियासी बातें घड़ी-पहर

छिड़ा चुनावी समर
छिड़ा चुनावी समर,
सियासी बातें घड़ी-पहर
नेता घूमें फिर डगर-डगर

बजी रणभेरी
छिड़ा चुनावी समर,
सियासी बातें घड़ी-पहर

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

10 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Rajesh Dubey के द्वारा
February 10, 2012

रणभेरी बजते ही सियासी बाते होने लगी हैं. शह और मात का खेल शुरू हो गया हैं.अच्छी सामयिक कविता के लिए बधाई.

jlsingh के द्वारा
February 10, 2012

जनता होगी दाता अब नेता याचक कर जोरे एक दिन का सुल्तान यह जन गण बन जाता याचक, पांच साल रहता कर जोड़े. बजी रणभेरी छिड़ा चुनावी समर, सुमन जी, नमस्कार! और बधाई!

Lahar के द्वारा
February 9, 2012

प्रिय सुमन जी नमस्कार चुनावी समर पर आइना दिखाती आपकी कविता अच्छी लगी |

akraktale के द्वारा
February 9, 2012

सुमनजी नमस्कार, बजी रणभेरी छिड़ा चुनावी समर, सियासी बातें घड़ी-पहर बहन जी सुन्दर रचना. आपके यहाँ के घमासान की रणभेरी बज चुकी है या कि कल से युद्ध ही शुरू हो चुका है आपने भी अपना मत प्रयोग किया ही होगा क्यों कि लोकतंत्र को पुनर्जीवित करने के लिए यही एक अवसर जनता के हाथ आता है.बधाई.

minujha के द्वारा
February 9, 2012

चुनावी समर का बढिया चित्रण

nishamittal के द्वारा
February 9, 2012

चुनावी परिदृश्य का यथार्थ वर्णन सुमन जी.

alkargupta1 के द्वारा
February 9, 2012

सुमन जी , चुनावी समर…सियासी बातें …और ये याचक नेता…… बहुत अच्छी रचना के लिए बधाई |

dineshaastik के द्वारा
February 9, 2012

चुनावी समर का यथार्थ चित्रण……सराहनीय रचना……

shashibhushan1959 के द्वारा
February 8, 2012

आदरणीय सुमन दीदी, सादर ! “बजी रणभेरी छिड़ा चुनावी समर, धूर्त मसीहाओं ने कास ली है अपनी कमर, भाषण और वादों से खीचें जनता की नज़र, बजी रणभेरी छिड़ा चुनावी समर !”

Rajkamal Sharma के द्वारा
February 8, 2012

CONTEST GOOD ATTEMPT CONGRATULATIONS


topic of the week



latest from jagran